बुधवार, अप्रैल 20, 2011

PREMIER CRICKET

CRICKET  घोडा  मंडी , में  बदल  गई  हैखिलाड़ी  बोली  पर  ख़रीदे  हुए  गुलाम  हैं . वे  अपने  मालिक  के  नाम  पर  दौड़ते  हैं . हर  चीज़  दाव  पर  है ; जैसे  शकुनी  के  पासे  दुर्योधन  के  लिए  थे . खेल  की  मर्यादा  द्रोपदी     है . सब  चीर  हरण  देख  रहे  हैं . घर , परिवार , संस्कार , समाज , देश , कुछ  परवाह  नहीं . बस  पैसा , प्रायोजक विज्ञापन , CHEER  LADY ,  SMS, TRP, बेहूदा  आंकड़ेबाजी  और  सट्टा . 
क्या  यही  है  खेल  की  परिभाषा  ? जरा  सोचें   !!
ASHOK KUMAR KHATRI; 74.2690 E; 29.6095N at globe APNY KHUNJA, Hanumangarh Junction, 335512

3 टिप्‍पणियां:

  1. क्रिकेट का अर्थ झींगुर ...किसारी भी होता है...जो घरों में चिक-चिक, चिक -चिक करती रहती है... वैसा ही ये क्रिकेट कर रहा है...देश में .........VINOD YADAV HANUMANGARH

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धर्म का उद्देश्य - मानव समाज में सत्य, न्याय एवं नैतिकता (सदाचरण) की स्थापना करना ।
      व्यक्तिगत (निजी) धर्म- सत्य, न्याय एवं नैतिक दृष्टि से उत्तम कर्म करना, व्यक्तिगत धर्म है ।
      सामाजिक धर्म- मानव समाज में सत्य, न्याय एवं नैतिकता की स्थापना के लिए कर्म करना, सामाजिक धर्म है । ईश्वर या स्थिर बुद्धि मनुष्य सामाजिक धर्म को पूर्ण रूप से निभाते है ।
      धर्म संकट- जब सत्य और न्याय में विरोधाभास होता है, उस स्थिति को धर्मसंकट कहा जाता है । उस परिस्थिति में मानव कल्याण व मानवीय मूल्यों की दृष्टि से सत्य और न्याय में से जो उत्तम हो, उसे चुना जाता है ।
      धर्म को अपनाया नहीं जाता, धर्म का पालन किया जाता है ।
      धर्म के विरुद्ध किया गया कर्म, अधर्म होता है ।
      व्यक्ति के कत्र्तव्य पालन की दृष्टि से धर्म -
      राजधर्म, राष्ट्रधर्म, पितृधर्म, पुत्रधर्म, मातृधर्म, पुत्रीधर्म, भ्राताधर्म, इत्यादि ।
      धर्म सनातन है भगवान शिव (त्रिदेव) से लेकर इस क्षण तक ।
      शिव (त्रिदेव) है तभी तो धर्म व उपासना है ।
      राजतंत्र में धर्म का पालन राजतांत्रिक मूल्यों से, लोकतंत्र में धर्म का पालन लोकतांत्रिक मूल्यों के हिसाब से किया जाता है ।
      कृपया इस ज्ञान को सर्वत्र फैलावें । by- kpopsbjri

      हटाएं
    2. वर्तमान युग में पूर्ण रूप से धर्म के मार्ग पर चलना किसी भी आम मनुष्य के लिए कठिन कार्य है । इसलिए मनुष्य को सदाचार एवं मानवीय मूल्यों के साथ जीना चाहिए एवं मानव कल्याण के बारे सोचना चाहिए । इस युग में यही बेहतर है ।

      हटाएं