रविवार, नवंबर 10, 2013

जाना तो है

http://apnyvaani.blogspot.in/2012/12/blog-post_31.html
रविवार 10/11/2013  
 आज सुबह मुज़फ्फर अली चुनाव लिपिक, तेन सिंह पटवारी हल्क़ा १० सरकारी, तथा श्री भंवरलाल स्वामी, अध्यापक, जिन्हें कि मैंने विधान-सभा चुनाव कार्य  तहसील में प्रतिनियुक्त किया हुआ है, को साथ लेकर तहसील की सरकारी गाड़ी RJ 14UA 3648 पर मतदान सम्बन्धी व्यवस्थायों तथा आचार सहिंता सम्बन्धी जाँच के लिए जा रहे थे, श्री आशाराम डूडी अतिरिक्त कलकटर सूरतगढ़ के बुलावे पर उनसे मिलने सूरत गढ़ भी जाना  था;
विजय नगर तहसील की सीमा समाप्त होते ही,  सुबह ९.३५ बजे हमने तेनसिंह को सड़क के बाईं ओर चक 13SD तहसील सूरतगढ़ की सीमा में, पण्डितजी पेट्रोल पम्प  पर उतारा और मुज़फ्फर ने  गाड़ी को सूरतगढ़ की तरफ़ सड़क पर चढ़ाने को दक्षिण-पूर्व को मोड़ कर रवाना किया; मैं अपने मोबाइल फोन को चार्जर पर लगाने में व्यस्त था, कि एकदम से मुझे जोर का झटका लगा, सिर उठाया तो, सामने से आता हुआ ट्रक  मेरी और से होकर तेजी से पश्चिम को निकल रहा था, और मुज़फ्फर ने भी तेजी से गाड़ी दायीं और घुमाकर निकाल ली, सामने से आने वाली पैदल औरतें और उनके पशु भी बच गये थे;
लगभग २० सैकण्ड, तक दिमाग़ सञ्ज्ञा-शून्य रहा, २५-३० सैकण्ड बाद विचार-शक्ति  लौटी, तो लगा आज परम-पिता अपनी शरण में ले लेता तो ठीक था, पर  उसने क्यों छोड़ दिया?
 आखिर उसकी शरण में "जाना तो है" !    

    सर्वे भवन्तु सुखिनः,         
    सर्वे सन्तु निरामया ! 
मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत !!

My Location at Globe 74.2690 E; 29.6095N
 Tehsildar's residence Srivijaynagar 335704, 

2 टिप्‍पणियां:

  1. Jana hai ye to nishchit hai...lekin jane ka samya bhi to nishchit hai...jab tak le jane wala na chahe koun ja sakaa hai .... han aisi ghatnayen ye sikha jati hain ki... jab jana hi hai to.... jab tak hain....tab tak imaan aur insaniyat zinda rakhen....asp dhattau hon....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुनहु भरत, भावी प्रबल ;
    बिलख कहेउ मुनि नाथ !
    हानि लाभ, जीवन मरण;
    जस अपजस बिधि हाथ !!

    उत्तर देंहटाएं